शाही किला

दिशा

नगर में गोमती तट पर स्‍थि‍त इस दुर्ग का र्नि‍माण फि‍रोज शाह ने 1362 में कराया था। इस दुर्ग के भीतरी फाटक 26.5 फीट उंचा तथा 16 फीट चौड़ा है। केन्‍द्रीय फाटक 36 फीट उंचा है। इसके उपर एक वि‍शाल गुम्‍बद बना है। वर्तमान में इसका पूर्वी द्वार तथा अन्‍दर की तरफ मेहराबे आदि‍ ही बची है, जो इसकी भव्‍यता की गाथा कहती है। इसके सामने के शानदार फाटक को मुनीम खां ने सुरक्षा की दृष्‍टि‍ से बनवाया था तथा इसे नीले एवं पीले पत्‍थरों से सजाया गया था। अन्‍दर तुर्की शैली का हमाम एवं एक मस्‍जि‍द भी है। इस दुर्ग से गोमती नदी एवं नगर का मनोहर दृश्‍य दि‍खायी देता है। इब्राहि‍म बरबक द्वारा बनवाई गई मस्‍जि‍द की बनावट में हि‍न्‍दु एवं बौद्ध शि‍ल्‍प कला की छाप है|

फोटो गैलरी

  • शाही किला
  • शाही किला
  • भूलभुलैया

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

निकटतम हवाई अड्डा लाल बहादुर शास्त्री बाबापुर, लगभग 50 किमी है

ट्रेन द्वारा

यह रेलवे स्टेशनों (जौनपुर सिटी / जौनपुर जेएन) से लगभग 4-5 किमी दूर है, ऑटो रिक्शा / ई-रिक्शा वहां पहुंचने के लिए उपलब्ध हैं।

सड़क के द्वारा

शाही किला जौनपुर बस स्टैंड से 2 कि०मी० की दूरी पर है